Tuesday, 15 June 2021

प्रतिबिंब



फूल की पंखुरी
या पत्ते पर ठिठकी
पानी की इक बूँद, 
क्षणभंगुर जीवन के
अप्रतिम सौंदर्य की 
प्रामाणिक छवि है ।

ये भी हो सकता है 
यह पारदर्शी बूँद 
चुपके से ढुलका
नमकीन आंसू है,
जप माला का 
टूटा मनका है या
आस का मोती है ।

संभवतः कोई कहे
श्वास भर यह बूँद 
संवेदनशील ह्रदय का
निश्छल भाव है,
प्रकृति का हास है,
जिसे सूर्य रश्मि 
स्पर्श कर ले यदि
सतरंगीं इंद्रधनुष की 
रूपहली कोर है ।

जिसकी जैसी 
है मनःस्थिति, 
यह बूँद उसी
अनुभूति का
प्रतिबिंब है ।
 

4 comments:

  1. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति। मनमोहक भी, सारगर्भित भी।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय

    ReplyDelete
  3. सुंदर भावों की अनुपम अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए