Sunday, 11 July 2021

कहानी


कहानी कहानी होती है ।
कितनी भी सच्ची लगे !
जितनी भी दिल को छुए ।
कहानी कहानी होती है ।
कहानियों से क्या होता है ?

कहानियों से क्या होता है ?
हाँ , कुछ याद रह जाती हैं ।
दिल में जगह बना लेती हैं ।
नेक इरादे तराश देती हैं ।
पर सच कहाँ हो पाती हैं ?
कहानी कहानी होती है ।

ईश्वर करे ! खांटी कहानी ये
सच्ची दास्ताँ ही बन जाए ।
हर सरल स्त्री के जीवन में, 
हर उस आदमी के हिस्से में 
जो कमज़ोर माना जाता है,
थोड़ा-सा हौसला आ जाए,
तो कहानी ही बदल जाए ।


चित्र साभार : श्री रौनक़ चौहान 


26 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 13 जुलाई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, दिग्विजय जी ।
      आनंद में सम्मिलित करने के लिए ।

      Delete
  2. खट्ट-मिट्टी पलों से गूँथी ज़िंदगानी
    बस इतनी ही होती है सबकी कहानी।
    ----
    सुंदर अभिव्यक्ति
    सादर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने भाव शब्दों के मोती पिरो दिए
      तकदीर बदल देते हैं हिम्मत के दिए.

      बहुत-बहुत धन्यवाद, श्वेता जी.

      Delete
  3. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (१४-०७-२०२१) को
    'फूल हो तो कोमल हूँ शूल हो तो प्रहार हूँ'(चर्चा अंक-४१२५)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार,अनीता जी. "फूल हूँ ..." इस खूबसूरत कविता के हवाले से होने वाली चर्चा में सम्मिलित होकर बड़ी प्रसन्नता होगी.

      Delete
  4. जिंदगी भी एक कहानी की तरह ही है

    बहुत सही

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, कविता जी. सबकी जिंदगी एक कहानी है. बस एक हौसले की कमी या मौजूदगी से फ़र्क पड़ जाता है.

      Delete
  5. ज़िबदगी में न जाने कितने किरदार बदलते हैं और कितनी कहानियाँ ... कोई अंत नहीं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. संगीता जी, 'नमस्ते' पर आपका स्वागत करते हुए बहुत हर्ष हो रहा है.
      बेशक बहुत सारी कहानियां और बेशुमार किरदार हैं. लेकिन कुछ ऐसी हैं, जो ज़रा से हौसले के बूते पर अपनी अलग पहचान बनाती हैं. सविनय धन्यवाद.

      Delete
  6. उन पात्रों को जीते हुए कहानी भी जीवंत हो उठती है और हौसला से भर देती है । सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. फीके व्यंजन में नमक का स्वाद होता है हौसला.
      घुटन भरी ज़िन्दगी में ताज़ा हवा का झोंका होता है हौसला.

      धन्यवाद. नमस्ते पर आपका सविनय स्वागत है, अमृता जी.

      Delete
  7. मानवता की कहानियां
    काश सच हो जाये.
    सुंदर रचना.
    नई पोस्ट पौधे लगायें धरा बचाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमीन.
      हौसला हम रखेंगे तो ज़रूर सच होंगी.
      हमारे सच करने से ही सच होंगी.
      शुक्रिया, रोहितास जी.नमस्ते पर आपका सादर स्वागत है.

      Delete
  8. हौसला दिलाती सुन्दर रचना!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुपमा जी, नमस्ते पर आपका हार्दिक स्वागत है.
      धन्यवाद.
      एक हौसला कथानक बदल देता है.
      कृपया ऑडियो भी सुन कर बताइयेगा, कैसा लगा यह प्रयोग.

      Delete
    2. सुना मैंने ऑडियो लिंक भी । बहुत रोचक प्रस्तुति लगी!!

      Delete
  9. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  10. वाह बहुत ही खूबसूरत रचना और इसमें मैम आपकी आवाज ने तो चार चांद लगा दिया!

    ReplyDelete
  11. जैसे कही कविता, वैसे ही कहते रहिए कहानी।

    ReplyDelete
  12. कहानी कहानी रहती है ...
    पर खोजी जाती है जीवन से मिलती जुलती कहानी फिर वो जीवन हो जाती है ...
    ताहि तो रचना भी ही ...

    ReplyDelete
  13. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी रचना ।
    http: feelmywords1.blogspot.com

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए