Tuesday, 29 September 2020

एक रुपहला फूल

कोई कोई दिन 
होता है ऐसा ..
स्वाद उतरा हुआ सा
फीका ..मन परास्त 
हार मान लेता,
जब काम सधते नहीं 
किसी तरह भी ।

तब ही अकस्मात 
नज़र पड़ी बाहर
रखे गमले पर ।

जिस पौधे की 
सेवा बहुत की थी,
फिर छोङ दी थी
सारी उम्मीद ।

उसी पौधे पर
नाउम्मीदी को 
सरासर 
मात दे कर,
खिला था 
एक रुपहला फूल ।

25 comments:

  1. सबै दिन एक से ना होय!

    रूपहली चांदनी सदा फैली रहे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद,अनमोल सा ।
      सबै दिन एक से ना जात ।
      समय का चक्र ऊपर नीचे घूमता ही रहता है ।

      Delete
  2. सबै दिन एक से ना होय!

    रूपहली चांदनी सदा फैली रहे। और जब अमावस हो तो दीप टिम - टिमाएं!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभाव और दुख सिखाता भी है ।
      धीरे-धीरे रे मना धीरे सब कुछ होय
      माली सींचे सौ घणा ऋतु आए फल होय

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (30-09-2020) को   "गुलो-बुलबुल का हसीं बाग  उजड़ता क्यूं है"  (चर्चा अंक-3840)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार, शास्त्री जी ।

      Delete
  4. सुंदर सृजन,सादर नमन आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर अभिवादन और आभार आपका ।

      Delete
  5. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार,अनुराधा जी ।

      Delete
  6. नाउम्मीदी के बादल छँट ही जाते हैं एक दिन...।
    सकारात्मकता से ओतप्रोत सुन्दर सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुधा जी,धन्यवाद ।
      उम्मीद पर दुनिया कायम है ।

      Delete
  7. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" गुरुवार 01 अक्टूबर 2020 को साझा की गयी है............ पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रवीन्द्र जी, धन्यवाद ।

      Delete
  8. यह सिखाता है कभी भी नाउम्मीदी नहीं रखनी चाहिए
    सुन्दर लेखन

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया,विभा जी ।
      हर अंकुर उम्मीद उम्मीद जगाता है ।

      Delete
  9. बहुत बढ़िया प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. नीतीश जी,बहुत शुक्रिया ।

      Delete
  10. निराश होने के बाद,प्रयत्न की सार्थकता और परिणाम में सफलता की प्राप्ति कितना प्रसन्नत देनेवाली होती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, प्रतिभा जी ।
      सोने पर सुहागा ।
      "हर ज़र्रा चमकता है अनवारे-इलाही से,
      हर साँस ये कहती है हम हैं तो खुदा भी है ।"

      Delete
  11. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद,ओंकार जी ।

      Delete
  12. बहुत सुंदर रचना


    स्वरांजलि satishrohatgipoetry

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए