Monday, 1 June 2020

जड़ें

एक पेड़ का 
धराशायी होना,
टूट कर गिरना,
हतप्रभ कर देता है ।
एक सदमे की तरह
आघात करता है ।
कुछ तोड़ देता है
अपने भीतर ।

एक पेड़ को
ठूंठ बनते देखा
तो लगा,
क्या फ़र्क है,
पेड़ के सूखने
और भावनाओं के
जड़ हो जाने में ?

इसीलिए जब
ठूंठ भी ना रहा,
हृदय की तरल
अनुभूति भी
जाती रही ।

जड़ों के बिना कोई
जी पाता नहीं ।
टिक पाता नहीं ।
पेड़ हो या आदमी ।

9 comments:

  1. We always have a choice between having wings to fly or having roots to ground ourselves. We seldom forget that the winged bird comes home to a rooted tree, and tree also finds joy in making itself a home for a winged creature.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Sa for sharing such a heart-warming thought.

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (03-06-2020) को   "ज़िन्दगी के पॉज बटन को प्ले में बदल दिया"  (चर्चा अंक-3721)    पर भी होगी। 
    --
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --   
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शास्त्रीजी.
      बहुत दिलचस्प शीर्षक है. रचनाएं भी रोचक होंगी, हमेशा की तरह.

      Delete
  3. Replies
    1. धन्यवाद, जोशी जी.
      बहुत दिनों में आपका आना हुआ.अच्छा लगा.

      Delete
  4. बहुत ही सुंदर एवं सारगर्भित काव्य रचा है बहना आपने.
    लाजवाब

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनीता जी, धन्यवाद ।
      कहीं जाकर हमारी सोच की रेखाएं मिल गई होंगी शायद ।

      Delete
  5. ठूण्ड बनने की और अग्रसर हो रहे हैं सुन्दर रचना

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते