Thursday, 21 March 2019

कविता की गरिमा





#विश्वकवितादिवस 
#WorldPoetryDay

14 comments:

  1. होली शुभ हो। सुन्दर भाव।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आदरणीय.
      बड़ों के आशीर्वाद से हर दिन शुभ हो जाता है. आभारी हूँ.
      नमस्ते.

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (22-03-2019) को "होली तो होली हुई" (चर्चा अंक-3282) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाऔं के साथ-
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शास्त्रीजी.
      होली तो होली हुई !
      होली पर कविता भी हुई !

      Delete
  3. Replies
    1. धन्यवाद.
      आपका स्नेह बना रहे.

      Delete
  4. Replies
    1. शुक्रिया मोहतरमा !

      Delete
  5. या कविता बन जाना😉

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनमोल जी,
      आपने अनमोल बात कह दी.
      कविता बन जाना कितना सुन्दर अनुभव होगा,
      यदि हमारा जीवन सहज और सरल होगा.
      हार्दिक आभार. लिखना सार्थक हुआ.

      Delete
  6. बहुत सुन्दर आपको और आपके पूरे परिवार होली के पावन पर्व व रंगो उत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ 💐💐🌹🙏

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत धन्यवाद शशिजी.
    कविता के रंगों से सराबोर होली भीतर तक रंग दे स्नेही जनों को.

    ReplyDelete
  8. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व जल दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज का ब्लॉग बुलेटिन पढ़ कर बहुत अच्छा लगा.ज्ञान बढ़ा.शुक्रिया.
      जल ही जीवन है.
      रहिमन पानी राखिये बिन पानी सब सून
      पानी बिना ना ऊबरे मोती मानस चून

      Delete

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते