Wednesday, 27 February 2019

जोश



जब तक होश है। 
रग-रग में जोश है। 

जिगर में 
जोश के बुलबुले नहीं ,
जोश के जुगनू भी नहीं 
जो पलक झपकने तक ही 
मौजूद रहें। 

ये जो 
कौंधता है 
मेरे वजूद में ,
बिजली की तरह  . . 

ये बरसों की तपस्या है। 
ठोकर खा-खा कर जो संभला है,
आग में तप कर जो निखरा है,
वो फ़ौलादी हौसला है। 

ये वीरता का अखंड दिया है। 
जो अलख जगाने वाला है।    
तिरंगे की सौगंध है। 
माँ से बच्चों का वादा है। 

दुष्टता का शत्रु है। 
मानवता का मित्र है। 

जब तक होश है। 
रग रग में जोश है।       



Featured post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

16 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 01 मार्च 2019 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार यशोदा जी.
      मन की बात और अधिक पाठकों तक पहुँचाने के लिए.

      Delete
  2. बहुत सुन्दर
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनीताजी.
      इस बार वीरों का वसंत आया है.

      Delete
  3. Replies
    1. शुक्रिया रितुजी.

      देश के वीरों को नमन.
      जितना भी कहें सो कम.

      Delete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-03-2019) को "पापी पाकिस्तान" (चर्चा अंक-3262)) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद शास्त्रीजी.

    लोग तो वही थे.
    बुनियाद ही बुरी थी.

    ReplyDelete
  6. वीर रस की एक बेहतरीन कविता।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमारे वीरों का पराक्रम ही इतना अद्भुत है !
      शब्दों में जितना भी कहें कम है.

      आपका स्वागत है आभार सहित नीतीश जी.
      प्रोत्साहन और निमंत्रण के लिए धन्यवाद.

      Delete
  7. कविता की आखिरी पंक्तियाँ काफी कुछ कह गईं. उत्कृष्ट

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद संजयजी.

    कितना भी कहो.
    कैसे भी कहो,
    कम लगता है.
    मन में भावों का
    समुद्र उमड़ रहा है.

    ReplyDelete
  9. बहुत लाजवाब.... जोशपूर्ण रचना....
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुधा जी, धन्यवाद ।

      कुछ ऐसा कर दिखाया है इन जवानों ने ।
      सोये प्राणों को जगाया है इन जवानों ने ।

      Delete

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते