Sunday, 2 December 2018

पीले फूल





बित्ते भर के
पीले फूल !

खिड़की से झांकते
सिर हिला-हिला के
अपने पास बुलाते,
इतने अच्छे लगे...
कमबख़्त !
उठ कर जाना पड़ा !

देखा आपस में
बतिया रहे थे,
राम जाने क्या !

एक बार लगा ये
धूप के छौने हैं ।
फिर लगा हरे
आँचल पर पीले
फूल कढ़े हैं ।
या वसंत ने पीले
कर्ण फूल पहने हैं ।

वाह ! क्या कहने हैं !
ये फूल मन के गहने हैं !

खुशी का नेग हैं !
भोला-सा शगुन हैं ।

इन पर न्यौछावर
दुनिया के व्यवहार ..
कम्बख़्त ये  ..  
बित्ते भर के
पीले फूल !




11 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 04 दिसम्बर 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशोदाजी.
      पाँच लिंकों का आनंद पर आना दिसंबर में पीलेफूलों का वसंत आने जैसा है !

      Delete
  2. एक बार लगा ये
    धूप के छौने हैं ।
    फिर लगा हरे
    आँचल पर पीले
    फूल कढ़े हैं ।
    या वसंत ने पीले
    कर्ण फूल पहने हैं ।....वाह ...वाह...वाह

    ReplyDelete
  3. आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की २२५० वीं बुलेटिन ... तो पढ़ना न भूलें ...


    यादगार मुलाक़ातें - 2250 वीं ब्लॉग बुलेटिन " , में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (04-12-2018) को "गिरोहबाज गिरोहबाजी" (चर्चा अंक-3175) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. कभी कभी ये फूल जिंदगी बन जाते हैं ...
    सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत रचना बित्ते भर के पीले फूलों की तरह.....बेहतरीन....

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना 👌

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत सुन्दर कोमल भावनाएं ।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर नरम एहसास से परिपूर्ण रचना..वाहहह👌

    ReplyDelete
  10. nice lines, visit to convert your lines in book form
    http://www.bookrivers.com/

    ReplyDelete

मन की मन में ना रखिए
भली-बुरी सब कह दीजिए

नमस्ते