Sunday, 2 December 2018

पीले फूल





बित्ते भर के
पीले फूल !

खिड़की से झांकते
सिर हिला-हिला के
अपने पास बुलाते,
इतने अच्छे लगे...
कमबख़्त !
उठ कर जाना पड़ा !

देखा आपस में
बतिया रहे थे,
राम जाने क्या !

एक बार लगा ये
धूप के छौने हैं ।
फिर लगा हरे
आँचल पर पीले
फूल कढ़े हैं ।
या वसंत ने पीले
कर्ण फूल पहने हैं ।

वाह ! क्या कहने हैं !
ये फूल मन के गहने हैं !

खुशी का नेग हैं !
भोला-सा शगुन हैं ।

इन पर न्यौछावर
दुनिया के व्यवहार ..
कम्बख़्त ये  ..  
बित्ते भर के
पीले फूल !




25 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 04 दिसम्बर 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशोदाजी.
      पाँच लिंकों का आनंद पर आना दिसंबर में पीलेफूलों का वसंत आने जैसा है !

      Delete
  2. एक बार लगा ये
    धूप के छौने हैं ।
    फिर लगा हरे
    आँचल पर पीले
    फूल कढ़े हैं ।
    या वसंत ने पीले
    कर्ण फूल पहने हैं ।....वाह ...वाह...वाह

    ReplyDelete
    Replies
    1. अलकनंदा नदी के किनारे ही ऐसे फूल ज़्यादा खिलते हैं !
      धन्यवाद अलकनंदा जी .

      Delete
  3. आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की २२५० वीं बुलेटिन ... तो पढ़ना न भूलें ...


    यादगार मुलाक़ातें - 2250 वीं ब्लॉग बुलेटिन " , में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कभी-कभी बुलेटिन में फूलों के खिलने का समाचार भी आ जाए तो अच्छा लगता है.
      आभार ब्लॉग बुलेटिन.

      Delete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (04-12-2018) को "गिरोहबाज गिरोहबाजी" (चर्चा अंक-3175) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. गिरोहबाज़ गिरोह्बाज़ी में पीले फूलों का गिरोह !
      अच्छा हुआ धार लिया गया !

      धन्यवाद आदरणीय शास्त्रीजी.

      Delete
  5. कभी कभी ये फूल जिंदगी बन जाते हैं ...
    सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ..और ज़िन्दगी की खुशबू को दूना कर देते हैं !
      शुक्रिया,नसवा जी.

      Delete
  6. बहुत खूबसूरत रचना बित्ते भर के पीले फूलों की तरह.....बेहतरीन....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बित्ते भर के फूलों के बड़े कद्रदान !

      नमस्ते सुधा जी.धन्यवाद.

      Delete
  7. सुन्दर रचना 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अनीताजी.
      नन्हे फूलों की करामात !

      Delete
  8. वाह बहुत सुन्दर कोमल भावनाएं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कुसुमजी.
      आप ना समझेंगी तो कौन समझेगा ?
      आपके तो नाम में ही फूल खिले हैं !

      Delete
  9. बहुत सुंदर नरम एहसास से परिपूर्ण रचना..वाहहह👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार श्वेताजी.
      जी.उबड़-खाबड़ रास्ते में फूल नज़र आ जाएं तो धुल-धूसरित पगडंडी भी भाने लगती है. नरम फूलों का एहसास नम कर देता है मन को.

      Delete
  10. nice lines, visit to convert your lines in book form
    http://www.bookrivers.com/

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you friends. Appreciate the name you have chosen.
      Please share a rate card brochure for details.
      Regards.

      Delete
  11. https://bulletinofblog.blogspot.com/2018/12/2018-17.html?m=1

    ReplyDelete
    Replies
    1. रश्मि प्रभा जी पहली बार किसी ने बताया कि... मेरी जुस्तजू ही मेरी पहचान है ..
      इस बात पर नज़र ठिठक गई. आपने बड़े प्यार से पढ़ा.सो धन्यवाद.अच्छा लगा.

      Delete
  12. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  13. ऐसा कमाल का लिखा है आपने कि पढ़ते समय एक बार भी ले बाधित नहीं हुआ और भाव तो सीधे मन तक पहुंचे !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय भास्कर जी धन्यवाद ।
      आपको आनंद आया, यह जान कर बहुत प्रसन्नता हुई ।

      Delete

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते