Saturday, 27 April 2013

फूल झरते हैं




मौसम ही है गर्मी का 
आजकल , क्या कहियेगा !
धूप देती है चटका 
तवे जैसा !
गर्म हवा का झोंका 
तबीयत झुलसा गया !
इनसे जूझता - जूझता 
जब सोनमोहर के नीचे से गुज़रा ,
छोटे - छोटे फूल पीले 
पेड़ से झरे , 
मेरे ऊपर गिरे , 
हलके - से छू गए .
कोमल स्पर्श फूलों का 
मानो आश्वस्त कर गया ..
कह गया -
धूप तपाती है ,
गर्म हवा नश्तर चुभाती है ,
पर सुनो , मन छोटा न करो ,
दरख़्त तले दो पल रुक कर देखो ..
इस मौसम में भी 
छाँव का बिछौना 
क्लांत पथिक को बुलाता है .
इस मौसम में ही 
सोनमोहर के फूल झरते हैं . 



4 comments:

Mukesh Kumar Sinha said...

waah re sonmohar ke phool...
pyari si kavita...

noopuram said...

dhanyawad mukeshji.

push singh said...

वाह क्या कविता है

push singh said...

अच्छी है

नमस्ते

http://www.blogadda.com" title="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs"> http://www.blogadda.com/images/blogadda.png" width="80" height="15" border="0" alt="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs" />