Wednesday, 25 August 2010



 
जद्दोजहद

मेरी सारी
जद्दोजहद
किसी और की
जगह
लेने के लिए 
नहीं,
अपनी जगह
ख़ुद
बनाने के लिए
है.
 

1 comment:

Shah Nawaz said...

मेहनत करते रहिये, अपनी जगह तलाश ही लेंगे... शुभकामनाएं.

प्रेमरस पर पढ़िए:
बाप रे बाप, डॉक्टर!

नमस्ते