सोमवार, 23 जनवरी 2023

जो समझना है

सत्य और असत्य 
उचित अनुचित में 
अंतर है क्या ..
इस बहस में उलझे रहे,
सिद्धांत उधेङते रहे,
तर्क की कंटीली 
बाङ बांधते रहे ,
किससे किसको 
बचाने के लिए ?

वाद-विवाद के 
चक्कर लगाते रहे ।
जहाँ थे, वहीँ रह गए ।
इतने संशय में 
कैसे जी पाओगे ?
अपने को पाओगे ?

इससे बेहतर तो हम
नदी के तट पर
चुपचाप बैठ कर,
जो साबित नहीं 
किया जा सकता,
उसे अनुभव करते
तो संभवतः अधिक 
समझ में आता ।

नदी के जल में भी 
फेंको पत्थर तो
होती है हलचल ।
शांत जल में 
झाँक कर देखें.. तो 
स्वयं को देख पाते हैं हम,
जब शांत जल बन जाता है दर्पण ।
कुछ समझे मेरे व्याकुल मन ?

7 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद, शास्त्री जी । आम, नीम,जामुन के बौर उगने से सुबह भी बौरा उठेगी!

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह, मर्म को छूती प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह नूपुरम जी, मन दर्पण पर लिखी एक शानदार रचना...बसंत आगमन की आपको ढेर सारी शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं

कुछ अपने मन की भी कहिए