Tuesday, 4 May 2021

ईशान कोण जीवन का


मेरे कमरे की
खिङकी का यह कोना
जिसमें फूला है मोगरा, 
धूप में जितना तपता
उतना ही बढ़िया खिलता
और सुगंध बिखेरता !

मेरे कमरे की
खिङकी का यह कोना
जिसमें फूला है मोगरा, 
खुशियों का है टोटका !
खाद,पानी,धूप का होना, 
और प्यार से यदि सींचा
मेहनत का फूल खिलेगा!

मेरे कमरे की
खिङकी का यह कोना
जिसमें फूला है मोगरा, 
समीकरण सुख-दुख का,
विसंगतियों  का टोना,
क्षणभंगुर उल्लास का 
फूल सा डिठौना !

मेरे कमरे की
खिङकी का यह कोना
जिसमें फूला है मोगरा, 
आलाप है आस्था का,
साक्षी है अंतर कथा का,
अव्यक्त भावों का ।

मेरे कमरे की
खिङकी का यह कोना
जिसमें फूला है मोगरा, 
हृदय के स्पंदन सा
आनंद की हिलोरें लेता,
ईशान कोण मेरे जीवन का ।


14 comments:

  1. वाह नूपुर

    ReplyDelete
  2. वाह नूपुर

    ReplyDelete
  3. अति प्यारा

    ReplyDelete
  4. और यह याद दिलाये वह मोगरा जो खिला ही प्रभु के चरण को छू जाने के लिए..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. इस मोगरे को जितने प्यार से सींचा जाएगा, यह उतनी ही ज़्यादा ख़ुशबू बिखेरेगा। बहुत अच्छी रचना की आपने नूपुर जी।

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. बहुत ही ख़ूबसूरती से आपने मोगरे की मनमोहक सुंदरता को जीवन संदर्भ से जोड़ दिया, ख़ुशबू बिखेरती सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सरल भाषा में आपने बहुत सुन्दर विचार रखा है आपने। वाकई यह अप्रतिम है।

    ReplyDelete
  10. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (०८-०५ -२०२१) को 'एक शाम अकेली-सी'(चर्चा अंक-४०५९) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  11. वाह नूपुरम जी, क‍ितना सुंदर ल‍िखा क‍ि '' मेरे कमरे की
    खिङकी का यह कोना
    जिसमें फूला है मोगरा,
    समीकरण सुख-दुख का,
    विसंगतियों का टोना,
    क्षणभंगुर उल्लास का
    फूल सा डिठौना'' प्रकृत‍ि और मन के भाव.. बहुत सुंदर...वाह

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर !

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए