Sunday, 5 January 2020

गुलफ़ाम


और इनसे मिलिए !
माई के हाथों का बुना
लाल स्वेटर पहने
हरा गुलूबंद लपेटे
तबीयत से
इतरा रहे हैं !
बन-ठन के
गुलफाम बने 
चले जा रहे हैं !

श्रीमान गुलाब राय की
बेफ़िक्र मुस्कान में,
गरमाहट,
गुनगुनी धूप की नहीं..
माई की 
ममता से
डबडबाई आंखों,
काम कर-कर के
खुरदुरी हुई हथेलियों 
और ऊन-सलाई सी
दक्ष उंगलियों की है !


3 comments:

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते