Thursday, 18 July 2019

नानाजी ने दी थी


नानाजी ने दी थी
नारायण की चवन्नी ।

कहा था,
संभाल कर रखना
इसे कभी मत खोना ।

ये भी कहा था,
जब सब खो जाता है,
तब काम आती है
नारायण की चवन्नी ।

बात सच्ची निकली ।
जब किस्मत खोटी निकली
तब चवन्नी ही काम आई ..

नारायण की चवन्नी 

क्या नहीं खरीद सकती ?
चांदी-सोने की गिन्नी ?
पर मन का चैन देती
नारायण की चवन्नी ।

इस चवन्नी के बल पर
हम दुनिया से लड़ गए 

बहुत हारे, पर हारे नहीं 

हमारी मुट्ठी में जो थी,
नारायण की चवन्नी ।

अमीरी का हमारी 

ठिकाना नहीं !
ठाकुरजी के दिए 

ठाठ हैं सभी !
प्रारब्ध की कील 

गड़ती नहीं ।
विरासत में हमको

सेवा मिली ।

रसास्वादन की 
कला दी थी ..
रस में पगी 
कथा दी थी ..

नानाजी ने दी थी
नारायण की चवन्नी ।

7 comments:

  1. Replies
    1. प्रोत्साहन के लिए अनेकानेक धन्यवाद.
      नमस्ते पर आपका विनम्र स्वागत है.

      विनती है आना-जाना लगा रहे.
      आपका मार्गदर्शन मिलता रहे.

      Delete
  2. Replies
    1. What a pleasant surprise Sachin !
      At last you have arrived on your own !
      Very happy to welcome you to namaste.
      Thank you. Glad you liked.

      Delete
  3. Bahut sunder didi radhe radhe ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुन्दर श्री राधा नाम जी !
      सुन्दर केशव का दर्शन जी !
      सुन्दर भक्त की भावना जी !
      अपना नाम तो बता दो जी !

      Delete
  4. https://bulletinofblog.blogspot.com/2019/07/2019_31.html

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते