Friday, 1 February 2019

हिंदी की ब्लॉग गली क्यों रहे संकरी ?




हिंदी में बस इतना ही ?

और बस ऐसा ही लेखन उपलब्ध है हिंदी ब्लोग्स पर ?
अंग्रेज़ी ब्लोग्स की तरफ़ देखो ! कितनी विविधता और कितने अच्छे ब्लोग्स हैं !

ऐसी प्रतिक्रिया अक्सर सुनने को मिलेगी . हिंदी ब्लॉग दुनिया के बारे में. इस बात में कुछ तथ्य भी है.
यह तुलना हिंदी और अंग्रेज़ी में लेखन की नहीं पर ब्लॉग संसार में हिंदी ब्लॉग की अवस्था से संबंधित है.
हिंदी में अच्छा लिखने वालों को ब्लॉग संसार में कम पाया जाता है. लोकप्रिय प्लेटफॉर्म्स पर बहुत सीमित प्रतिभा वाले नज़र आते हैं. जहां तक हिंदी लेखन का सवाल है.

ऐसे में ब्लॉग पर अच्छा साहित्य उपलब्ध करने वालों को प्रोत्साहित करना बहुत आवश्यक और सराहनीय कार्य है. इस पोस्ट को पढने वाले ब्लॉगर अच्छी रचनाओं को सामने लाने के लिए iblogger की नियमित गतिविधियों का अनुसरण करें और इनमें शामिल भी हों. हाल ही में हिंदी ब्लॉगर के लिए ब्लॉगर ऑफ़ द इयर २०१९ प्रतियोगिता का आयोजन किया है.

हिंदी ब्लॉगर को प्रोत्साहन देने के लिए आयोजित इस प्रतियोगिता की प्रविष्टियों को पढना रोचक होगा.

इसी प्लेटफार्म पर www.experienceofindianlife.com की पोस्ट्स बहुत दिलचस्प लगीं.
सुश्री अभिलाषा चौहान का यह ब्लॉग भारतीय जीवन शैली के परिप्रेक्ष्य से मन के भावों को और जीवन के अनुभवों को सहज भाव से विश्लेषण करते हुए कविता, कहानी, लेख के माध्यम से अभिव्यक्त करता है. शीर्ष स्थान का दावेदार है.

 Experience Of Indian Life

पढ़िए. प्रोत्साहन मिलेगा तो हिंदी ब्लॉग जगत समृद्ध होगा. सशक्त रचनाओं से.
प्रतिभागिता सबसे बड़ा प्रोत्साहन होगा. स्वागत है. नमस्ते. 

20 comments:

  1. सहृदय आभार नुपुर जी,आपने मेरी रचनाओं में इतना महत्त्वपूर्ण समझा।
    बस अनुभूतियों को अभिव्यक्त करती हूं।
    सत्यम शिवम सुंदरम में विश्वास रखती हूं।

    ReplyDelete
  2. आपके लेखन का आकलन करने की योग्यता हममें नहीं है । बहुत संकोच से जो अनुभव हुआ वही कह दिया । कहीं कोई तार जुड़ा होगा आपकी और हमारी अनुभूति और अभिव्यक्ति का । नज़रिया एक हो । बात हज़ारों कलेवर ओढ़े कही जा सकती है । आभार आदरणीया ।

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (02-02-2019) को "हिंदी की ब्लॉग गली" (चर्चा अंक-3235) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शास्त्रीजी ।

      Delete
  4. After going over a few of thе blog posts on your web site, I really like yur way of blogging.
    I book-markеd iit to my bookmark wеbpage list and
    will be checking back soon. Please visit my wweb site aѕ well and let me know whst you
    think.

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you. however, you have not mentioned your website.

      Delete
  5. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 01/02/2019 की बुलेटिन, " देश के आम जनमानस का बजट : ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ब्लॉग बुलेटिन

      Delete
  6. अभिलाषा दी का ब्लॉग सच में बहुत अच्छा हैं। मैं लगभग उनकी हर पोस्ट पढ़ती हूँ।

    ReplyDelete
  7. सच में अभिलाषा दी बहुत सुंदर लिखतीं हैं

    ReplyDelete
  8. Its such as you read my mind! You appear to grasp a lot approximately this, like you wrote the
    book in it or something. I believe that you simply can do with a
    few percent to force the message home a bit,
    but other than that, this is magnificent blog. An excellent read.
    I'll certainly be back. I am sure this piece of writing has touched all the internet people, its really
    really nice article on building up new web site.

    Woah! I'm really loving the template/theme of this blog.
    It's simple, yet effective. A lot of times it's hard to get that "perfect balance" between usability and visual appeal.
    I must say you have done a fantastic job with this.
    Also, the blog loads extremely fast for me on Chrome. Exceptional
    Blog! http://cspan.co.uk/

    ReplyDelete
  9. Fantastic goods from you, man. I have understand your stuff previous to and you're just extremely great.

    I actually like what you have acquired here, really like what you are stating and
    the way in which you say it. You make it enjoyable and you still care for to keep it wise.

    I cant wait to read far more from you. This is really a terrific site.

    ReplyDelete
  10. Very nice article, totally what I needed.

    ReplyDelete
  11. You are so cool! I don't think I have read anything like that before.
    So great to find another person with some genuine thoughts on this subject.
    Seriously.. many thanks for starting this up. This website is something that is needed on the
    web, someone with a little originality!

    ReplyDelete
  12. Hey! Would you mind if I share your blog with my zynga group?
    There's a lot of people that I think would really
    enjoy your content. Please let me know. Thanks

    ReplyDelete
  13. I don't know if it's just me or if perhaps everybody else encountering
    problems with your site. It appears as though some of the text in your content are running off the screen. Can somebody
    else please comment and let me know if this is happening to them as well?

    This could be a issue with my browser because I've had this happen previously.
    Thanks

    ReplyDelete
  14. Hmm is anyone else experiencing problems with the pictures on this blog loading?
    I'm trying to find out if its a problem on my end or if it's the blog.
    Any suggestions would be greatly appreciated.

    ReplyDelete
  15. This is very interesting, You're a very skilled blogger.

    I've joined your rss feed and look forward to seeking more of
    your wonderful post. Also, I've shared your website in my social networks!

    ReplyDelete
  16. Thanks for the marvelous posting! I quite enjoyed reading it, you could be a great author.
    I will remember to bookmark your blog and will come back at some point.
    I want to encourage continue your great writing,
    have a nice morning!

    ReplyDelete
  17. Spot on with this write-up, I actually believe this website needs a
    lot more attention. I'll probably bee returnig to read more, thanks for the
    info!

    ReplyDelete

कुछ अपने मन की कहते चलिए

नमस्ते