Sunday, 15 February 2015

छत



दफ्तर से लौटते वक़्त 
रोज़ाना,
सिग्नल वाले मोड़ पर, 
पुल के नीचे,
बस रूकती है 
एक दो मिनट ।

अक्सर 
मेरी खिड़की से 
दिखाई देता है 
पुल के नीचे का 
एक कोना 
जहाँ 
एक परिवार बसता है ।

रोज़ दिखाई देता है 
वह छोटा - सा परिवार ।
एक कम उम्र की औरत,
उसका छोटा-सा बच्चा,
एक बड़ी उम्र की औरत,
उसकी सास शायद  . . 
और संभवतः आदमी उसका ।
उनकी गृहस्थी बँधी 
कुछ पोटलियों में ।

बस जब रूकती है 
डेढ़-दो मिनट  . . 
खाना बन रहा होता है 
अक्सर ।
चार ईंटों पर बना चूल्हा 
उस पर एक तवा,
तवे पर सिकती मोटी रोटी 
देख कर भूख लग आती है ।

बड़ी औरत हमेशा 
एक ही जगह 
बैठी नज़र आती है,
हिडिम्बा जैसी,
स्थापित स्तूप की तरह ।
खाना वही बनाती है ।
कभी-कभी लेटी नज़र आती है,
पोटलियों के बीच ।

असल में वही है 
परिवार की मुखिया ।
गल्ले पर जैसे सेठ बैठा हो,
वह बैठी-बैठी, 
छोटी-छोटी प्लास्टिक की डिब्बियों से 
शायद मसाला निकालती है,
छौंक लगाती है ।

बच्चे की दूध की बोतल भी 
रखी होती है ।
ज़रुरत की चीज़ें सभी 
उन पोटलियों में मौजूद हैं ।

एक दिन अचानक देखा,
चूल्हा पड़ा था ठंडा ।
और सामान भी नहीं था ।
जी धक से रह गया ।
कहाँ गए ? क्या हुआ ?
मन उदास हो गया 
उन्हें ढूँढता हुआ ।

अगले दिन फिर देखा  . . 
वही सरंजाम था ।
परिवार वापस आ गया था !
जान कर चैन आया ।

रोज़ का सिलसिला 
फिर शुरू हो गया ।
पुल का कोना फिर बस गया ।

उनका चूल्हा जलता रहे ।
चूल्हे पर कुछ ना कुछ पकता रहे ।
बच्चे की दूध की बोतल भरी रहे ।
बस इसी तरह रोज़ रुका करे ।
उनसे मेरा रिश्ता बना रहे ।
और भगवान करे  . . 
एक दिन
उनके भी सर पर हो 
एक छत ।



2 comments:

  1. Very nice emotional poem. We all go through what you have expressed here, whenever we travel.
    Its like a prayer for the homeless.
    Ek Dil Ki Pukaar.
    Superb.

    ReplyDelete
  2. Thank you mumbaiiteanu.
    Nice to know you felt the same experiencing something similar.
    Its like your thoughts echoing.....

    ReplyDelete

नमस्ते