Sunday, 15 February 2015

तुम हो



जब छत से आँगन में धूप उतरती है,
मुझे लगता है कि तुम हो ।
तुम हो ।
सुनहरी धूप की गुनगुनी छुअन तुम हो ।
मेरी हर बात में तुम हो ।
हर इक अहसास में तुम हो ।

जब घर की क्यारी में फूल खिलते हैं,
मुझे लगता है कि तुम हो ।
तुम हो ।
इन फूलों की भीनी खुशबू तुम हो ।         
मेरी हर बात में तुम हो ।
हर इक अहसास में तुम हो ।

जब खेतों में पुरवाई चलती है,
मुझे लगता है कि तुम हो ।
तुम हो ।
चंचल हवाओं की अल्हड़ शोखी तुम हो ।
मेरी हर बात में तुम हो ।
हर इक अहसास में तुम हो ।

जब बरामदे में बच्चे शोर मचाते हैं,
मुझे लगता है कि तुम हो ।
तुम हो ।
शरारती बच्चों की मासूमियत तुम हो ।
मेरी हर बात में तुम हो ।
हर इक अहसास में तुम हो ।



2 comments:

  1. जिसको उस पर अटूट विशवास होता है उसे पत्येक कार्य में उसका ही अहसास होता है, इसी भाव को व्यक्त करती सुन्दर कविता |

    ReplyDelete
  2. ॐ प्रकाश शर्माजी,

    आपका आभार .

    मार्गदर्शन करते रहियेगा .

    नमस्ते .

    नूपुर

    ReplyDelete

नमस्ते