Saturday, 30 August 2014

गणपति बप्पा मोरया

हर मुम्बईकर के पिता,
गणपति बप्पा मोरया ।
इनका उत्सव आया,
चतुर्दिक हर्ष छाया !

शिल्पकार की मुखर हो उठी कल्पना,
बप्पा को अनेक रूपों में देखा ।

किसी ने उन्हें मुनीमजी बनाया,
किसी ने स्कूल का यूनिफार्म पहनाया ।
किसी ने हाथों में वाद्य थमाया,
किसी ने पग में नूपुर बाँधा ।

कभी हाथ में पुस्तक,
कभी नृत्य को उत्सुक,
बप्पा ने सबका मन बहलाया,
सिर पर रखा हाथ मस्तक सहलाया ।

बप्पा के चरणों पर शीश नवाऊँ,
बप्पा की गोद में सिर रख सो जाऊं ..
                       तो चैन पाऊं,
                       बप्पा के गुण गाऊं ।

भाव विभोर हो मन कह उठा,
बप्पा हमको आशीष देना ।


2 comments:

  1. मुम्बई के गणपति उत्सव का सटीक वर्णन । सुन्दर अभिव्य्क्ति ।

    ReplyDelete
  2. शर्माजी धन्यवाद .
    पढ़ते रहिएगा .

    ReplyDelete

नमस्ते