Saturday, 15 March 2014

शायद अब कल मैं कुछ लिखूँ



आपकी सराहना ने 
अनुभूति के रिक्त कोने 
                        भर दिए ।
शायद अब 
           कल मैं कुछ लिखूँ ।

अपनी कलम के साथ चार कदम चलूँ ।
शब्दों में अपने साफ़ - साफ़ दिखूँ ।
            शायद अब 
                       कल मैं कुछ लिखूँ ।   

ऊन की सलाई पर नए फंदे बुनूँ ।
बगीचे की क्यारी में नन्हा पौधा रोपूं ।
             शायद अब 
                        कल मैं कुछ लिखूँ ।   

खट्टी-मीठी गोलियों का चटपटा स्वाद चखूँ ।
बच्चों संग बच्चा बन नित नए खेल खेलूँ । 
              शायद अब 
                         कल मैं कुछ लिखूँ ।

नदी किनारे बैठ कर बाँसुरी बजाऊँ ।
खाट पर लेटे-लेटे तारों से मंत्रणा करूं ।
              शायद अब 
                         कल मैं कुछ लिखूँ ।     

शायद अब कल मैं कुछ लिखूँ ।




1 comment:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

नमस्ते