Wednesday, 24 July 2013

खिड़की



खोल दो 
मन की खिड़की । 
बाहर की 
हवा आने दो . 

खिड़की के हिस्से का 
आसमान 
धूप के रास्ते
उतर आने दो 
ज़मीन पर . 

धूल, धुंआ , बारिश की बौछार ,
मिटटी की महक 
बस जाने दो 
भीतर . 

खिड़की का खुलना 
है एक प्रबल संभावना,
जीवन के चमत्कार की 
झलक मिल जाने की .    




2 comments:

suraj mahant said...

very beautifully written, inspiring as well - www.freepaperbook.com

noopuram said...

surajji,

sarahna ke liye apka dhanywad.

नमस्ते

http://www.blogadda.com" title="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs"> http://www.blogadda.com/images/blogadda.png" width="80" height="15" border="0" alt="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs" />