Saturday, 23 April 2011


बच्चे

बड़े बहुत उलझाते हैं 
मुझको बच्चे ही भाते हैं
 
बच्चों की भोली बातों से 
सारे शिकवे मिट जाते हैं                                                                                                                                                      
जब हिम्मत टूट जाती है
बच्चे उम्मीद बंधाते हैं
 
जब बादल छा जाते हैं
बच्चे सूरज बन जाते हैं
 
 
....................................

                                                                  

जब चाँद नहीं होता नभ में                                                    
बस तारे टिमटिमाते हैं 
तब घर के अँधेरे कोनों में
दीये जगमगाते हैं                                                                                                    


........................................

अपने बच्चों को मैं क्या दूं                                                                      
उन पर मैं क्या कुर्बान करूं
वो ही मेरा मुस्तकबिल हैं 
और मेरी सारी दुनिया हैं                                                                       


 

1 comment:

  1. बहुत सुन्‍दर और भावपूर्ण कवितायें हैं नूपुर जी, धन्‍यवाद.

    ReplyDelete

नमस्ते