Saturday, 21 March 2009

पतंग
मन में
अटकी
कोई बात
जैसे
पेड़ पर
या
बिजली के तार पर
अटकी
कोई
पतंग

No comments:

Post a Comment

नमस्ते