Friday, 20 November 2009

जीवन मुझे जी भर कर जीना है

जीवन का रस चखो

खूब काम करो
काम का मज़ा लो
जितना सीख सको,
जिससे सीख सको... सीखो
जीवन का रस चखो

अभी तो

मन की कई बातें,
कहनी और सुननी हैं
सोची-समझी बातें,
गुननी और करनी हैं

प्यार और मन्दिर का प्रसाद
बांटना है
तुलसी की चौपाइयों को
आत्मसात करना है

भाग्य का लिखा
बांचना है
जो लिखा है उसे
वश में करना है

मन को साधना है
अपने लक्ष्य को पाना है

जी भर कर
गाना-गुनगुनाना है
कलेजे की हूक को
कोयल की कूक
बनाना है

जहाँ हिम्मत टूटे ..
पांव फिसले ..

संभल कर - तुरंत
बिना बात
ढोलक की थाप
पर
झूम कर
ठुमका लगाना है

खुशहाली के बीज
बोना है
उम्मीद की कोपलों को
सींचना - सहलाना है

जीवन के कैनवस में
रंग भरना है
अनुभूति के
हर रंग में
रंगना है

इस क्षण को जीना है
हर क्षण में जीवन पिरोना है

No comments:

नमस्ते

http://www.blogadda.com" title="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs"> http://www.blogadda.com/images/blogadda.png" width="80" height="15" border="0" alt="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs" />