Sunday, 1 January 2017

अभिमन्यु

हारने के डर से 
अभिमन्यु लड़ना नहीं छोड़ता ।

तो क्या हुआ 
कि उसकी विद्या अधूरी है ?
चक्रव्यूह को भेद कर 
बाहर निकलना आना ज़रूरी है ।
अभिमन्यु को पता है,
युद्ध टाला नहीं जा सकता ।
समय पर जो विद्या 
काम ना आए, 
उस विद्या का उपयोग क्या ?
अभिमन्यु पीछे नहीं हट सकता ।   

तो क्या हुआ 
कि वो अर्जुन नहीं ?
कृष्ण तो बिल्कुल नहीं ।
पर वो अभिमन्यु तो है ।

अभिमन्यु मृत्यु से नहीं डरता ।
उसे पता है ,
वो चक्रव्यूह 
भेद नहीं पायेगा ।
पर विजय ना सही, 
वीरगति तो पायेगा।
पराक्रम की 
आधारशिला रख जायेगा ।
अभिमन्यु लड़े बिना
कहीं नहीं जायेगा ।
क्रूर शूरवीरों को 
पाठ पढ़ा कर जायेगा ।
अपना कर्तव्य 
पूरा करके जायेगा ।
अंतिम श्वास तक 
लड़ कर जायेगा ।

उसे पता है, 
महायुद्ध का 
यह अंत नहीं ।
युद्ध कोई निष्कर्ष नहीं, 
मतभेद का ।
पर अन्याय सहना भी,
कोई विकल्प नहीं ।

स्वाभिमान की रक्षा, 
हर मनुष्य का 
कर्तव्य है ।
और आत्मबल ही 
सबसे बड़ा बल है ।
फिर भय कैसा ?
भयभीत होना 
अभिमन्यु ने नहीं सीखा ।     
उसने बस इतना जाना, 
कर्म ही है गीता ।
फिर संशय कैसा  ?

जो अपनी 
सामर्थ्य भर लड़ा है,
वही योद्धा जीता है ।  

नमस्ते