Wednesday, 1 January 2014

दो अभय




माथे पर बिंदी नहीं,
कलाइयों में चूड़ियाँ नहीं,
कानों में बुँदे नहीं,
नाक में लौंग नहीं,
सूती बंगाली साड़ी नहीं,

अस्पताल के कपड़े ।
ड्रिप को देखते - देखते 
बूँद - बूँद 
सरकता समय  . . 
नहीं, नहीं, 
मुझे बर्दाश्त नहीं !
माँ का ये बेरंग फीका चेहरा,
चेहरे पर दर्द की लकीरें  . . 
आय वी से छिदे 
हाथ दुबले - पतले  . . 

परमपिता,
अब कुछ करो ऐसा,
मिट जाये चिंता की रेखा ।
जीवन की गरिमा 
बनी रहे ।
लौट आयें ज़िंदगी में 
ज़िंदादिली के रंग  . . 

इस निस्सार शून्य से 
अब तो दो अभय !


               

No comments:

Post a Comment

नमस्ते