Thursday, 5 September 2013

विडंबना



कितने झूठ 
बोलने पड़े ,
एक सच 
समेटने 
के लिए।   



No comments:

Post a Comment

मन की मन में ना रखिए
भली-बुरी सब कह दीजिए

नमस्ते