Sunday, 2 September 2012

छांव



तुमने
तपती धूप से
बचने के लिए
एक सूती दुपट्टा
दिया है.
भगवान करे
तुम्हें
जीवन में
कभी भी
छांव की
कमी ना हो.

 

No comments:

Post a Comment

नमस्ते