Wednesday, 1 June 2011

तुकबंदी बनाम कविता



जो चाहा
और जो हुआ,
इन दोनों
सौतेले झमेलों में...
कितने भी हाथ-पाँव पटको
कितने भी पैंतरे बदल-बदल कर देखो
सोच-सोच कर सर दे मारो...

समझदारों !
जो चाहा
और जो हुआ
इन दोनों में तुक बैठेगी नहीं,
कितनी भी कर लो तुकबंदी !

हाँ ! अगर
जो हुआ उसे
सोच की कसौटी पर
कस कर
परखो
और कुछ कर दिखाओ
तो इंशा अल्लाह !
तुकबंदी भी होगी उम्दा,
और बनेगी ज़िंदगी कविता.

                                                                                                                                                           

5 comments:

  1. बड़ी सहजता से अभिव्‍यक्‍त किया है इतनी गहरी बात को.

    ReplyDelete
  2. protsahan ke liye dhanywad.

    ReplyDelete
  3. Sahaj aur sateek abhivayakti ke liye sadhuvad

    ReplyDelete

नमस्ते