Wednesday, 1 June 2011

तुकबंदी बनाम कविता



जो चाहा
और जो हुआ,
इन दोनों
सौतेले झमेलों में...
कितने भी हाथ-पाँव पटको
कितने भी पैंतरे बदल-बदल कर देखो
सोच-सोच कर सर दे मारो...

समझदारों !
जो चाहा
और जो हुआ
इन दोनों में तुक बैठेगी नहीं,
कितनी भी कर लो तुकबंदी !

हाँ ! अगर
जो हुआ उसे
सोच की कसौटी पर
कस कर
परखो
और कुछ कर दिखाओ
तो इंशा अल्लाह !
तुकबंदी भी होगी उम्दा,
और बनेगी ज़िंदगी कविता.

                                                                                                                                                           

5 comments:

अरुण चन्द्र रॉय said...

khoobsurat !

noopuram said...

sarahna ke liye dhanyawad

संजीव said...

बड़ी सहजता से अभिव्‍यक्‍त किया है इतनी गहरी बात को.

noopuram said...

protsahan ke liye dhanywad.

ramesh sharma bahia said...

Sahaj aur sateek abhivayakti ke liye sadhuvad

नमस्ते

http://www.blogadda.com" title="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs"> http://www.blogadda.com/images/blogadda.png" width="80" height="15" border="0" alt="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs" />