Sunday, 4 July 2010

असंभव

कैसे ?

पत्थरों के बीच
कोपल फूटती है ?

दीवार की दरार के
बीचों - बीच
कोमल पौधा
पनपता है ?

हवा की थपकी से
हौले-हौले हिलते हुए
बोध कराता  है,

असंभव कुछ भी नहीं.





noopuram

नमस्ते

http://www.blogadda.com" title="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs"> http://www.blogadda.com/images/blogadda.png" width="80" height="15" border="0" alt="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs" />