Monday, 12 December 2016

मेरे हिस्से का आकाश





                               मेरे हिस्से में 
                               जितना भी 
                               आकाश है,
                               बहुत है.. 
                               पंख फैला कर 
                               उड़ान भरने के लिए ।  

                               काफ़ी है, 
                               बाँहें फैला कर 
                               समूचे आकाश को 
                               गले लगाने के लिए ।


                               सबके लिए, 
                               दिल में जगह
                               बनाने के लिए ।
 


5 comments:

राकेश कुमार श्रीवास्तव राही said...

आपके हिस्से का सुंदर आकाश। सुंदर कविता।

Amit Agarwal said...

Bahut sunder!

noopuram said...

बहुत आभार आपका ।

noopuram said...

धन्यवाद । आभार ।

noopuram said...

बहुत आभार आपका ।

नमस्ते

http://www.blogadda.com" title="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs"> http://www.blogadda.com/images/blogadda.png" width="80" height="15" border="0" alt="Visit BlogAdda.com to discover Indian blogs" />